Halloween party ideas 2015

How does fasting start in Hinduism?

If a person intends to fast he prepares and takes his food on the day before the fast-day at noon, cleans his teeth, and fixes his thoughts on the fasting of the following day. From that moment he abstains from food. On the morning of the fast-day he again cleans his teeth, washes himself, and performs the rituals of the day. He takes water in his hand, and sprinkles it into all four directions; then he pronounces the name of the deity for whom he fasts, and remains in this condition till the day after the fast-day. After the sun has risen, he is free to break the fast at that moment if he likes, or, if he prefers, he may postpone it till noon.(1)

Kinds of Fasting in Hinduism

If a person breaks his fast when the sun has risen, this kind of fasting is called Upvasa, but if a person fasts from one noon to the following it is called Lakant, not Upvasa. Another kind of fasting is called Krichra, if a person takes his food on some day at noon, and on the following day in the evening. On the third day he eats nothing except what by chance is given to him without asking. On the fourth day he fasts.

Another kind of fasting is called Parak, if a person takes his food at noon on three consecutive days. Then he transfers his eating-hour to the evening during three further consecutive days. Then he fasts uninterruptedly during three consecutive days without breaking fast.

Another kind of fasting is called Chandrayn, if a person fasts on the day of full moon; on the following day he takes only a mouthful, on the third day he takes double this amount, on the fourth day the threefold of it, going on thus till the day of new moon. On that day he fasts; on the following days he again diminishes his food by one mouthful a day, till he again fasts on the day of full moon.

Another kind is called Masaupvasa, if a person uninterruptedly fasts all the days of a month without ever breaking fast.(2)

 
Fasting in Hinduism is not something compulsory, it is only a voluntary and individual worship that depends on the intention of a person.

Sawm Al-Wisal (continuous fasting) in Islam

We would like here to address the issue of continuous fasting in Islam. Sawm Al-Wisal means to fast day after another continuously without interruption; if a person fasted a day and did not eat or drink anything until the second day and then continued his fasting and did not eat anything and drink any thing and kept fasting the other day, this type of fasting is called Sawm Al-Wisal, whether the fasting lasted for two or more days. This type of fasting is prohibited in Islam.

The fast of the Prophet (peace be upon him) continuously was his special distinctions. In some matters the Prophet (peace be upon him) had some specific commandments which were obligatory for him but not for his followers. Such things were permissible for him but not for his nation. All these things are called his special distinctions.

It is not permissible for Muslims to follow such practices. One of these things is Sawm Al-Wisal, which means to observe fast for several days without taking any food at all. Since Allah had granted the Prophet (peace be upon him) special power and patience, he could observe fast continuously for days. But his followers are not endowed with that energy and patience; so they are not permitted to do so. Because Sawm Al-Wisal may weaken human body and may lead to self-destruction which is not permissible in Islam.(3) There are two narrations in this regard:

1)    Abu Hurairah and `Aishah (may Allah be pleased with them) said: The Prophet (peace be upon him) prohibited observing continuous voluntary fasts further than one day. (Al-Bukhari and Muslim)

2)    Ibn `Umar (may Allah be pleased with them) said: The Messenger of Allah (peace be upon him) prohibited observing continuous fasts more than one day. The companions submitted: “But you do it.” He replied, “I am not like you. I am given to eat and to drink (from Allah).” (Al-Bukhari and Muslim)

 

Hindu months and related fasting

This is about the types of fasting in Hinduism according to the intention of a devotee. There are some rewards on fasting in Hindu religion, but most of these rewards are related to this worldly life, such as the devotee will get fame, fortune and love of women, etc.

If a man fasts all the days of Chitra, he obtains wealth and joy over the nobility of his children.

If he fasts Vaisakha, he will be a lord over his tribe and great in his army.

If he fasts Jytha, he will be a favorite of the women.

If he fasts Ashadha, he will obtain wealth.

If he fasts Sravana, he obtains wisdom.

If he fasts Bhadrapada, he obtains health, wealth, riches and cattle.

If he fasts Asvayuja, he will always be victorious over his enemies.

If he fasts Kartika, he will be grand in the eyes of people and will obtain his wishes.

If he fasts Margasirsha, he will be born in the most beautiful and fertile country.

If he fasts Pausha, he obtains a high reputation.

If he fasts Magha, he obtains innumerable wealth.

If he fasts Phalguna, he will be beloved.(4)

Rewards of fasting in Islam

 

We have seen in the previous lines that most of the rewards of fasting in Hindu religion are associated with this life, such as getting money, wealth and prestige, etc. According to Islam, this life and its all pleasures are little when compared with the Hereafter.

In Islam, the rewards of fasting are the most comprehensive and complete. Though there are many verses in the Glorious Qur’an and many Hadiths of the Prophet (peace be upon him) that show the reward of fasting. The most important reward of this worship is the pleasure of Allah the Almighty. We refer here to two Hadiths that mentioned the reward of fasting.

1)    The Prophet (peace be upon him) said that Allah the Almighty said: “Every action of the son of Adam is given manifold reward, each good deed receiving (reward of) ten times its like, up to seven hundred times. Allah the Most High said, ‘Except for fasting, for it is for Me and I will give recompense for it, he leaves off his desires and his food for Me.’ (Al-Bukhari).

2)    The Prophet (peace be upon him) said: “There is a gate in Paradise called Ar-Rayyan, and those who observe fasts will enter through it on the Day of Resurrection and none except them will enter through it. It will be said: ‘Where are those who used to observe fasts?’ They will get up, and none except them will enter through it. After their entry the gate will be closed and nobody will enter through it.” (Al-Bukhari)

But fasting in Hinduism is observed for different deities as was previously mentioned.  A Hindu brother says in this regard: “A vrata can be taken during a religious festival, or a pilgrimage, and also in conjunction with pursuing some goal in life, which may include material or spiritual well being or success. Vratas are applied following ritually significant and meaningful patterns, depending on which deity is addressed or which goal is pursued.”(5)

Is Drinking Juice Permissible during Fasting in Hinduism?

 

Some kinds of fasting in Hinduism are partial not entirely, contrary to what is known in Islam. Fasting in Islam, whether supererogatory or obligatory includes complete abstinence from eating, drinking and sexual intercourse. If a Muslim intends fasting, it is not permissible for him to drink even a drop of water, juice or milk, even drinking a drop of water or a drop of juice or milk invalidates his fast. Similarly, if he eats anything of fruits or vegetables or food cooked or uncooked, his fast becomes invalid;this is from dawn up to sunset. However, in Hinduism some types of fasting means abstinence from certain food so drinking water or juice will not invalidate his fast.

A Hindu writer says in this context: “You can fast from all food, or only from solid food. You can choose a one day fast with only: water fresh fruit juice, fresh vegetable juice, raw fruit and raw vegetables, avoiding during the fast cooked vegetables, cooked whole grains, whole grain flour products, bread, pasta, etc.”(6)

This type of fasting leads some Hindu brothers to eat some food eagerly, which is not included in his fast and rush to some other foods greedily. This has been criticized by a Hindu brother in a style of irony, who says:

“Today, you will see people with plates overflowing with puris and pakoras who say they are fasting. There are phalharI chapatis, saboodana kichari and so many other hearty foods that we barely even notice it is a fast. I have heard that there is even a recipe for phalhari pizza dough!”(7)

The Time of Fasting in Hinduism

 

In Hinduism, some fast begins from sunrise up to sunrise of another day, a Hindu brother inquired about the timing of the Maha Shivaratri fast if it is a sunrise to sunrise fast? If the fast would be started from sunrise on the 12th of February (the day of Shivaratri) and would be broken after sunrise on the day after (13 February).

Then the answer was: “The Mahashivratri fasting begins on the morning of Shivratri and ends on the next day morning or the Amavasya morning.(8)

What is Karwa Chauth?

 

Karwa Chauth is a particular fast in Hinduism which is observed by only married Hindu women in some parts of India for the wellbeing, prosperity, and longevity of their husbands.

There is no fasting in Islam particular for wife; rather, woman and man both are equal in fasting. Also the reward of fasting would be for the faster not for his/her spouse.

Conclusion:

 

After we have presented some aspects of fasting in Hindu religion, we would like to point out a few notes.

First: The presence of fasting in Hinduism is a positive sign and a common denominator between Hinduism and Islam and other religions of the world which shows the importance of fasting for mankind.

Second: Fasting in Hindu society is a mixture of idolatry and polytheism as was stated by Al-Beruni. The worship of fasting in Hinduism is devoted to different gods and deities during every month and festival. While fasting in Islam is only for the pleasure of One God that is Allah the Almighty. However, this does not mean absence of other physical and spiritual benefits in fasting. The worship of fasting in Islam is based on the commandment of Allah the Wise. That is why, it bears many benefits for human being, though some of those benefits have been revealed by the modern medical science.

Third: Hindu religion is devoid of texts that can determine if the sexual intercourse during fasting is invalid or valid. We should bear in mind that angels neither eat nor drink; they are only absorbed in the worship of Allah. When a Muslim fast he tries to imitate them in their habits, that entails that sexual intercourse also must be avoided during the fast so that the imitation would be complete as the angels are free from carnal desires. Moreover, the Hindu ascetics use to fast and renounce all worldly desires including wife, son, wealth, house and all belongings and many Hindu monks still abstain from everything related to this world. The absence of ruling about sexual intercourse during fasting in Hindu scriptures is a serious issue? This denotes that Hindu scriptures have been twisted and distorted over times.

Fourth: It is only Hinduism where you can imagine a partial fasting or abstaining from some particular food or drink.

Fifth: Islam is characterized by mass fasting. Muslims fast all over the world in one month, Ramadhan the ninth month of Islamic calendar, but there is no concept of mass fasting in Hinduism similar to the fasting in Ramadhan.

Sixth: Fasting in the Hindu religion is a voluntary and individual worship not an obligatory and collective ritual, as was stated by Al-Beruni. However, Islam is characterized by both types of fasting; obligatory and supererogatory.  The fast of Ramadhan is compulsory on every Muslim, sane, adult and capable. But who is sick or on a journey he will fast when he is healthy and capable after Ramadhan. As well as a pregnant and nursing woman is allowed to remain without fasting and she will make up for those days when her situation was changed. Fasting is prohibited for a menstruating woman and for the woman after child-birth due to their unstable psychology and health. Some types of fasting are supererogatory in Islam like the fasting on every Monday and Thursdays, and every 13th, 14th and 15th of every month as per Islamic calendar.

We pray Allah the Almighty to guide us to the straight path and accept our fasting.

___________________

(1) Al-Beruni’s India, translated by DR. EDWARD C. SACHAU, LONDONKEGAN PAUL, TRENCH, TRUBNER & CO. Ltd. DKYDEN HOUSE, GERRAKD STREET, W.1910, Vol.2nd p.157.

(2) Ibid.

(3) See: Badr Ad-Din Al-A`yni, `Umdat Al-Qari: A commentary on Sahih Al-Bukhari, Dar Al-Fikr, vol. 10, p. 300.

(4) Al-Beruni’s India, p.157.

(5) http://www.speakingtree.in/spiritual-slideshow/seekers/faith-and-rituals/sex-during-fasting-whats-wrong-in-it (Last accessed on 18-6-2014).

(6) http://www.falconblanco.com/health/fasting.htm (Last accessed on 19-6-2014).

(7) http://www.parmarth.com/updates/april2002/message.htm (Last accessed on 20-6-2014).

(8) http://www.hindudharmaforums.com/showthread.php?t=5280(Last accessed on 15-6-2014).

-कैसे उपवास हिंदू धर्म में शुरू करता है?एक व्यक्ति को वह तैयार करता है और दोपहर में तेजी से एक दिन पहले दिन अपने भोजन लेता तेज करने का इरादा रखता है, तो उसके दांत साफ है, और अगले दिन के उपवास पर अपने विचारों को ठीक करता है। उस पल से वह भोजन से नहीं खाता। वह फिर से अपने दांत साफ तेजी से दिन की सुबह खुद को धोता है, और दिन के अनुष्ठान प्रदर्शन करती है। वह अपने हाथ में पानी लेता है, और चारों दिशाओं में यह sprinkles; तो उन्होंने कहा कि वह व्रत रखती है, जिनके लिए देवता के नाम करे, और तेजी से दिन के बाद दिन तक इस हालत में रहता है। सूरज निकलने के बाद, उन्होंने कहा कि वह पसंद करते हैं, तो वह दोपहर तक इसे स्थगित कर सकता है, वह पसंद करती है, तो उस पल में व्रत तोड़ने के लिए स्वतंत्र है, या। (1)हिंदू धर्म में उपवास के प्रकारसूरज बढ़ी है जब एक व्यक्ति को अपने तेजी से टूट जाता है, तो उपवास की इस तरह Upvasa कहा जाता है, लेकिन एक व्यक्ति के लिए एक दोपहर से व्रत रखती है, तो यह Upvasa, Lakant नहीं कहा जाता है के बाद। एक व्यक्ति को दोपहर में कुछ दिन अपने भोजन लेता है, और शाम को अगले दिन यदि उपवास का एक अन्य तरह, Krichra कहा जाता है। तीसरे दिन वह संयोग से पूछे बिना उसे करने के लिए दिया जाता है क्या सिवाय कुछ भी नहीं खाती है। चौथे दिन वह व्रत रखती है।एक व्यक्ति लगातार तीन दिनों को दोपहर में अपने भोजन लेता है, तो उपवास का एक अन्य तरह, Parak कहा जाता है। फिर वह आगे के तीन लगातार दिनों के दौरान शाम को अपने खाने-घंटे स्थानान्तरण। फिर वह उपवास तोड़ने के बिना लगातार तीन दिनों के दौरान लगातार व्रत रखती है।एक व्यक्ति को पूर्णिमा के दिन व्रत रखती है, तो उपवास का एक अन्य तरह, Chandrayn कहा जाता है; अगले दिन वह केवल एक कौर लेता तीसरे दिन वह नया चाँद के दिन तक इस प्रकार चल रहा है, चौथे दिन पर, इसके बारे में तीन गुना डबल इस राशि लेता है। उस दिन वह व्रत रखती है; वह फिर से पूर्णिमा के दिन व्रत रखती है जब तक अगले दिन वह फिर से एक दिन में एक कौर द्वारा अपने भोजन घटता है।एक व्यक्ति लगातार कभी उपवास तोड़ने के बिना एक महीने के सभी दिन व्रत रखती है, तो एक अन्य तरह, Masaupvasa कहा जाता है। (2)

हिंदू धर्म में उपवास यह केवल एक व्यक्ति की मंशा पर निर्भर करता है कि एक स्वैच्छिक और व्यक्ति पूजा है, अनिवार्य नहीं है।इस्लाम में sawm अल-Wisal (निरंतर उपवास)हम इस्लाम में निरंतर उपवास के मुद्दे का समाधान करने के लिए यहाँ चाहते हैं। Sawm अल-Wisal बिना किसी रुकावट के लगातार एक के बाद तेजी से दिन के लिए इसका मतलब है; एक व्यक्ति को तो एक दिन उपवास और खाने के लिए या दूसरे दिन तक कुछ भी नहीं पी रहा था और यदि है, चाहे अपने उपवास जारी रखा और कुछ भी खाने के लिए और किसी भी बात नहीं पी रहा था और दूसरे दिन उपवास के इस प्रकार के sawm अल-Wisal कहा जाता है उपवास रखा उपवास दो या उससे अधिक दिनों तक चली। उपवास के इस प्रकार इस्लाम में निषिद्ध है।पैगंबर (शांति उस पर हो) के तेजी से लगातार अपने विशेष भेद था। कुछ मामलों में पैगंबर (शांति उस पर हो) उसके लिए नहीं बल्कि अपने अनुयायियों के लिए अनिवार्य किया गया है जो कुछ विशिष्ट आज्ञाओं था। इस तरह की बातें उसके लिए नहीं बल्कि अपने देश के लिए स्वीकार्य थे। इन सभी चीजों को अपने विशेष भेद कहा जाता है।मुसलमानों ऐसी प्रथाओं का पालन करने के लिए यह अनुमति नहीं है। इन चीजों में से एक सब पर किसी भी भोजन लेने के बिना कई दिनों के लिए तेजी से निरीक्षण करने के लिए इसका मतलब है जो sawm अल-Wisal है। अल्लाह के पैगंबर दी थी के बाद से विशेष शक्ति और धैर्य (शांति उस पर हो), वह कुछ दिनों के लिए तेजी से लगातार निरीक्षण कर सकता। लेकिन उनके अनुयायियों है कि ऊर्जा और धैर्य के साथ संपन्न नहीं कर रहे हैं; इसलिए वे ऐसा करने की अनुमति नहीं है। । Sawm अल-Wisal मानव शरीर कमजोर हो सकता है और इस्लाम में जायज़ नहीं है, जो आत्म-विनाश का कारण हो सकता है, क्योंकि (3) इस संबंध में दो कथन कर रहे हैं:1) अबू Hurairah और `Aishah (अल्लाह उनके साथ खुश हो सकता है) ने कहा: पैगंबर (शांति उस पर हो) एक दिन की तुलना में आगे निरंतर स्वैच्छिक उपवास को देख निषिद्ध। (अल बुखारी और मुस्लिम)2) इब्न `उमर (अल्लाह उनके साथ खुश हो सकता है) ने कहा: अल्लाह के मैसेन्जर (शांति उस पर हो) निरंतर उपवास एक दिन से अधिक का अवलोकन निषिद्ध। साथियों प्रस्तुत: "लेकिन आप इसे करते हैं।" उन्होंने कहा कि मैं तुम्हें पसंद नहीं कर रहा हूँ, "उत्तर दिया। मैं खाने के लिए और (अल्लाह से) पीने के लिए दिया हूँ। "(अल बुखारी और मुस्लिम)
 
हिंदू महीने और संबंधित उपवासयह एक भक्त के इरादे के अनुसार हिंदू धर्म में उपवास के प्रकार के बारे में है। वहाँ हिंदू धर्म में उपवास पर कुछ पुरस्कृत कर रहे हैं, लेकिन इन पुरस्कारों के इस तरह के ज्यादातर प्रसिद्धि, भाग्य और महिलाओं के प्यार, आदि मिल जाएगा भक्त के रूप में, इस सांसारिक जीवन से संबंधित हैंएक आदमी चित्रा के सभी दिनों व्रत रखती है, तो वह अपने बच्चों के बड़प्पन से अधिक धन और खुशी प्राप्त करता है।वह Vaisakha व्रत रखती हैं, तो वह अपनी सेना में एक अपने जनजाति पर भगवान और बहुत अच्छा होगा।वह Jytha व्रत रखती है, वह महिलाओं की एक पसंदीदा किया जाएगा।वह आषाढ़ व्रत रखती है, वह धन प्राप्त होगा।वह Sravana व्रत रखती है, वह ज्ञान प्राप्त करता है।वह भाद्रपद व्रत रखती है, वह स्वास्थ्य, धन, समृद्धि और मवेशी प्राप्त करता है।वह Asvayuja व्रत रखती हैं, तो वह हमेशा अपने दुश्मनों पर विजयी होगा।वह कार्तिक व्रत रखती है, वह लोगों की आंखों में भव्य होगा और उसकी इच्छा प्राप्त करेंगे।वह Margasirsha व्रत रखती हैं, तो वह सबसे सुंदर और उपजाऊ देश में पैदा हो जाएगा।वह पौष व्रत रखती है, तो वह एक उच्च प्रतिष्ठा प्राप्त है।वह माघ व्रत रखती हैं, तो वह अनगिनत धन प्राप्त करता है।वह फाल्गुन व्रत रखती है, वह प्रिय हो जाएगा। (4)इस्लाम में उपवास का पुरस्कार
 
हम इस तरह के आदि हो रही पैसा, धन और प्रतिष्ठा, के रूप में हिंदू धर्म में उपवास के पुरस्कार से ज्यादातर इस जीवन के साथ जुड़े रहे हैं कि पिछले लाइनों में देखा है इसके बाद की तुलना में इस्लाम के अनुसार, इस जीवन और उसके सभी सुख छोटी हैं।इस्लाम में, उपवास का पुरस्कार सबसे व्यापक और पूरी हो चुकी है। उपवास का इनाम चलता है कि पैगंबर के गौरवशाली कुरान और कई हदीसों में कई छंद (शांति उस पर हो) कर रहे हैं हालांकि। इस पूजा का सबसे महत्वपूर्ण इनाम सर्वशक्तिमान अल्लाह की खुशी है। हम उपवास का इनाम उल्लेख किया है कि दो हदीसों के लिए यहाँ देखें।"आदम के बेटे की हर क्रिया, प्राप्त प्रत्येक अच्छा काम (के इनाम) दस बार अपनी तरह, ऊपर से सात सौ गुना कई गुना इनाम दिया जाता है: 1) पैगंबर (शांति) उस पर हो अल्लाह सर्वशक्तिमान ने कहा कि कहा। अल्लाह परमप्रधान, 'यह मेरे लिए है और मैं इसके लिए बदला चुकाना दूंगा, वह अपनी इच्छाओं और मेरे लिए अपने भोजन बंद छोड़ देता है। उपवास को छोड़कर' (अल बुखारी) ने कहा।2) पैगंबर (शांति) उस पर होना ने कहा: "वहाँ की गिरफ्तारी-रायन बुलाया स्वर्ग में एक द्वार है, और उपवास का निरीक्षण जो उन लोगों के जी उठने के दिवस पर यह माध्यम से प्रवेश करेंगे और उन्हें छोड़कर कोई भी इसके माध्यम से प्रवेश करेंगे। '? उपवास निरीक्षण करने के लिए इस्तेमाल किया है जो उन लोगों के हैं जहां' वे उठना होगा, और उन्हें छोड़कर कोई भी इसके माध्यम से प्रवेश करेंगे: यह कहा जाएगा। उनके प्रवेश करने के बाद गेट बंद कर दिया जाएगा और कोई भी इसके माध्यम से प्रवेश करेंगे। "(अल बुखारी)जैसा कि पहले उल्लेख किया गया था, लेकिन जैसा कि हिंदू धर्म में उपवास विभिन्न देवताओं के लिए मनाया जाता है। एक हिंदू भाई इस संबंध में कहते हैं: "एक Vrata सामग्री या आध्यात्मिक अच्छी तरह से किया जा रहा है या सफलता शामिल हो सकते हैं जो जीवन में कुछ लक्ष्य का पीछा के साथ संयोजन के रूप में भी एक धार्मिक त्योहार है, या एक तीर्थ यात्रा के दौरान लिया, और किया जा सकता है। Vratas जिस पर देवता को संबोधित किया है या जो लक्ष्य का पीछा कर रहा है निर्भर करता है, धार्मिक महत्वपूर्ण और सार्थक पैटर्न का पालन लागू कर रहे हैं। "(5)हिंदू धर्म में उपवास के दौरान रस अनुमत पीने का है?
 
हिंदू धर्म में उपवास के कुछ प्रकार की है, न कि पूरी तरह से इस्लाम में जाना जाता है के विपरीत आंशिक रहे हैं। इस्लाम में उपवास, कर्त्तव्यातिक्ति या अनिवार्य, खाने पीने और संभोग से पूरा संयम शामिल है या नहीं। एक मुस्लिम उपवास का इरादा रखता है, तो उसे, पानी, जूस या दूध की एक बूंद भी पीने यहां तक ​​कि पानी की एक बूंद या रस या दूध की एक बूंद अपना अनशन अमान्य पीने के लिए, यह अनुमति नहीं है। वह पका या कच्चा फल या सब्जियों या भोजन के लिए कुछ भी खाती है अगर इसी तरह, अपना अनशन अमान्य हो जाता है, यह सूर्यास्त अप करने के लिए सुबह से है। हालांकि, हिंदू धर्म में उपवास के कुछ प्रकार के कुछ भोजन से संयम तो उसकी तेजी से अमान्य नहीं होगा पानी या रस पीने का मतलब है।एक हिंदू लेखक इस संदर्भ में कहते हैं: "आप सभी को भोजन से तेजी से, या केवल ठोस भोजन से कर सकते हैं। (", तेजी से पकाया सब्जियों के दौरान परहेज, पानी ताजा फलों का रस, ताजा सब्जियों के रस, कच्चे फल और कच्ची सब्जियों 6 आदि पकाया साबुत अनाज, साबुत अनाज उत्पादों आटा, ब्रेड, पास्ता,: आप ही के साथ तेजी से एक एक दिन का चयन कर सकते हैं )उपवास के इस प्रकार अपना अनशन में शामिल है और लालच से कुछ अन्य खाद्य पदार्थों के लिए जल्दी नहीं है, जो बेसब्री से कुछ खाना खाने के लिए कुछ हिंदू भाइयों की ओर जाता है। यह विडंबना की एक शैली में एक हिन्दू भाई द्वारा आलोचना की गई है, जो कहते हैं:"आज, आप पाएंगे कि वे उपवास कर रहे हैं जो कहते हैं कि puris के साथ बह निकला प्लेटें और पकोड़े के साथ लोगों को देखेंगे। PhalharI चपाती, saboodana kichari और हम मुश्किल से भी यह एक तेजी से सूचना है कि बहुत से अन्य हार्दिक पदार्थ हैं। मैं भी phalhari पिज्जा आटा के लिए एक नुस्खा है कि वहाँ सुना है! "(7)हिंदू धर्म में उपवास का समय
 
हिंदू धर्म में, कुछ तेजी से एक और दिन के सूर्योदय तक के सूर्योदय से शुरू होता है, एक हिंदू भाई यह तेजी से सूर्योदय के लिए एक सूर्योदय तेजी यदि महा शिवरात्रि के समय के बारे में पूछा? तेज फरवरी (शिवरात्रि के दिन) की 12 वीं पर सूर्योदय से शुरू किया जाएगा और (13 फरवरी) के बाद दिन सूर्योदय के बाद टूट जाएगी।तो जवाब था: "महाशिवरात्रि उपवास शिवरात्रि की सुबह शुरू होता है और अगले दिन सुबह या अमावस्या की सुबह समाप्त हो जाती है (8)।करवा चौथ क्या है?
 
करवा चौथ अपने पतियों की भलाई, समृद्धि, और दीर्घायु के लिए भारत के कुछ हिस्सों में विवाहित हिंदू महिलाओं द्वारा मनाया जाता है, जो हिंदू धर्म में एक विशेष तेज है।पत्नी के लिए इस्लाम में विशेष रूप से कोई उपवास नहीं है; बल्कि, औरत और आदमी दोनों उपवास में बराबर हैं। इसके अलावा उपवास के इनाम के लिए तेजी से नहीं उसकी / उसके पति के लिए किया जाएगा।निष्कर्ष:
 
हम हिंदू धर्म में उपवास के कुछ पहलुओं को प्रस्तुत करने के बाद, हम कुछ नोट बाहर बात करना चाहते हैं।पहली: हिंदू धर्म में उपवास की उपस्थिति मानव जाति के लिए उपवास का महत्व पता चलता है जो एक सकारात्मक संकेत है और हिंदू धर्म और इस्लाम और दुनिया के अन्य धर्मों के बीच एक आम भाजक है।दूसरा: अल Beruni द्वारा कहा गया था के रूप में हिंदू समाज में उपवास मूर्ति पूजा और बहुदेववाद का एक मिश्रण है। हिंदू धर्म में उपवास की पूजा हर महीने और त्योहार के दौरान विभिन्न देवताओं और देवी-देवताओं को समर्पित है। इस्लाम में उपवास केवल अल्लाह सर्वशक्तिमान है कि एक भगवान की खुशी के लिए है। हालांकि, इस उपवास में अन्य भौतिक और आध्यात्मिक लाभ के अभाव मतलब नहीं है। इस्लाम में उपवास की पूजा अल्लाह समझदार की आज्ञा पर आधारित है। उन लाभों के कुछ आधुनिक चिकित्सा विज्ञान ने खुलासा किया गया है, हालांकि, यह इंसान के लिए बहुत से लाभ भालू है कि क्यों।तीसरा: हिंदू धर्म उपवास के दौरान संभोग अवैध या वैध है, तो यह निर्धारित कर सकते हैं कि ग्रंथों से रहित है। हम स्वर्गदूतों खाने और न ही पीने के लिए न कि ध्यान में रखना चाहिए; वे केवल अल्लाह की पूजा में अवशोषित कर रहे हैं। एक मुस्लिम तेजी से वह अपनी आदतों में उन्हें नकल करने की कोशिश करता है, कि नकली स्वर्गदूतों कामुक इच्छाओं से मुक्त कर रहे हैं के रूप में पूरा हो जाएगा तो संभोग भी तेजी के दौरान से बचा जाना चाहिए कि जरूरत पर जोर देता। इसके अलावा, हिंदू संन्यासियों अभी भी इस दुनिया से संबंधित हर चीज से बचना पत्नी, पुत्र, धन, घर और सभी सामान और कई हिंदू भिक्षुओं सहित सभी सांसारिक इच्छाओं तेजी से करने के लिए उपयोग करें और त्याग। हिंदू शास्त्रों में उपवास के दौरान संभोग के बारे में सत्तारूढ़ के अभाव में एक गंभीर मुद्दा है? यह हिंदू ग्रंथों मुड़ और समय के साथ विकृत कर दिया गया है कि अर्थ।चौथा: यह आपको कुछ विशेष भोजन या पीने से परहेज़ एक आंशिक उपवास या कल्पना कर सकते हैं, जहां केवल हिंदू धर्म है।पांचवें: इस्लाम में बड़े पैमाने पर उपवास की विशेषता है। तेजी से सभी एक महीने में दुनिया भर में मुस्लिम, Ramadhan इस्लामी कैलेंडर का नौवां महीना है, लेकिन Ramadhan में उपवास के लिए इसी तरह हिंदू धर्म में सामूहिक उपवास की कोई अवधारणा नहीं है।छठी: अल Beruni द्वारा कहा गया था के रूप में हिंदू धर्म में उपवास, एक स्वैच्छिक और व्यक्ति पूजा नहीं एक अनिवार्य और सामूहिक अनुष्ठान है। हालांकि, इस्लाम उपवास के दोनों प्रकार से होती है; अनिवार्य और कर्त्तव्यातिक्ति। Ramadhan के तेजी से हर मुस्लिम, समझदार, वयस्क और सक्षम पर अनिवार्य है। लेकिन बीमार या वह Ramadhan के बाद स्वस्थ और सक्षम है जब वह तेजी से होगा एक यात्रा पर कौन है। के रूप में अच्छी तरह से एक गर्भवती और नर्सिंग महिला के उपवास के बिना रहने के लिए अनुमति दी है और उसकी स्थिति बदल गया था जब वह उन दिनों के लिए कर देगा के रूप में। उपवास की वजह से उनके अस्थिर मनोविज्ञान और स्वास्थ्य के लिए एक मासिक धर्म औरत के लिए और बच्चे के जन्म के बाद महिला के लिए निषिद्ध है। उपवास के कुछ प्रकार के इस्लामी कैलेंडर के अनुसार हर महीने के हर सोमवार और गुरुवार को उपवास, और हर 13 वीं, 14 वीं और 15 वीं की तरह इस्लाम में कर्त्तव्यातिक्ति हैं।हम सीधे रास्ते करने के लिए हमें मार्गदर्शन और हमारे उपवास स्वीकार करने के लिए सर्वशक्तिमान अल्लाह प्रार्थना करते हैं।___________________(1) अल Beruni के इंडिया, डॉ द्वारा अनुवाद किया। एडवर्ड सी SACHAU, LONDONKEGAN पॉल, खाई, ट्रुब्नर एंड कंपनी। लिमिटेड DKYDEN सदन, GERRAKD स्ट्रीट, W.1910, Vol.2nd p.157।(2) वही।(3) देखें: बद्र विज्ञापन दीन अल-A`yni, `Umdat अल-कारी: Sahih अल बुखारी, डार अल-Fikr, खंड पर एक टिप्पणी। 10, पृ। 300।(4) अल Beruni भारत, p.157।(5) http://www.speakingtree.in/spiritual-slideshow/seekers/faith-and-rituals/sex-during-fasting-whats-wrong-in-it (पिछले 18-6-2014 पर पहुँचा)।(6) http://www.falconblanco.com/health/fasting.htm (अंतिम 19-6-2014 पर पहुँचा)।(7) http://www.parmarth.com/updates/april2002/message.htm (अंतिम 20-6-2014 पर पहुँचा)।(8) http://www.hindudharmaforums.com/showthread.php?t=5280(Last 15-6-2014 पर पहुँचा)।

Post a Comment

Powered by Blogger.